Uttarakhand Bedu UK Academe

बेडू मध्य हिमालयी क्षेत्र के  जंगली फलों में से एक है। समुद्र के स्तर से 1,550 मीटर ऊपर स्थानों पर जंगली अंजीर के पौधे बहुत ही सामान्य होते हैं। मुख्यतः गढ़वाल और कुमाऊ के क्षेत्रों में इनका सबसे अच्छे से उपयोग किया जाता है। ये पेड़ जंगलों में बहुत कम पाए जाते हैं, लेकिन गाँवों के आसपास, बंजर भूमि, खेतों आदि में उगते हैं। फल लोगों को बहुत पसंद आते हैं और इन्हें बिक्री के लिए भी प्रयोग किया जाता है।

इनके फूल मार्च से शुरू होता है और अप्रैल के अंत तक जारी रहता है। और फल बनने में जून से जुलाई तक का समय लगता है। एक पूर्ण विकसित जंगली अंजीर का पेड़ अनुकूलित मौसम में  25 किलोग्राम के आस पास फल देता है।बीज सहित संपूर्ण फल खाने योग्य  होता है। यह मीठा और रसदार होता है, जिसमें कुछ कसैलापन होता है, इसके समग्र फल की गुणवत्ता उत्कृष्ट है।

 

 

आंध्र प्रदेश-  मनमजेडी

गढ़वाल- खेमरी, फेरू 

गुजरात- पीपरी

हिमाचल प्रदेश- पहेगरा  फागुरा , डगला अजिर  

हिंदी - अबजिरि , बेडू , खेमरि 

जौनसार - फेरु

कुमाऊँ- बेडू

पंजाब- अंजिर

 

  • बेडू एक बहुत ही स्वादिष्ट फल है। पहाड़ी क्षेत्रों में सभी के द्वारा बहुत पसंद किया जाता है। बेडू फल पकने के बाद एक रसदार फल की भाती होता है। इस फल से विभिन्न उत्पादों, जैसे स्क्वैश, जैम और जेली बनाने के काम भी आता है।
  • फलों की रखने की गुणवत्ता अधिक नहीं है और इसलिए इसे केवल स्थानीय बाजार में बेचा जा सकता है।
  • इसमें मुख्य रूप से शर्करा और श्लेष्मा गुण होते हैं और, तदनुसार कब्ज के समस्याओ में और फेफड़ों और मूत्राशय के रोगों में आहार के रूप में वे मुख्य रूप से उपयोग किए जाते हैं। उनका उपयोग पोल्टिस के रूप में भी किया जाता है।
  • इसक उपयोग वसंत की प्रारंभिक सब्जी के रूप में किया जाता है। उन्हें पहले उबाला जाता है और फिर निचोड़ कर पानी निकाला जाता है। फिर उनसे एक अच्छी हरी सब्जी तैयार की जाती है।
  • इसक फल कच्चा मीठा रसीला होता है । बिना फलों और युवा अंकुरों को पकाया जाता है और सब्जी के रूप में भी खाया जाता है ।
  • इसकी लकड़ी वैसे तो अधिक मूलयवान नहीं होती है, लेकिन इसका प्रयोग हुप्स, माला, गहने आदि बनाने के लिए किया जाता है।
  • कब्ज और फेफड़ों और मूत्राशय के रोगों के उपचार में आहार के हिस्से के रूप में इसका उपयोग किया जाता है। सैप का उपयोग मौसा के उपचार में किया जाता है।