Bheem Pul

Bheem_Pul
  • 17 Apr
  • 2020

Bheem Pul

हिंदुस्तान के आखिरी गाँव माणा में आज भी पांडवों को स्वर्ग ले जाने वाला महाबली भीम द्वारा बनाया गया एक प्राकृतिक पत्थर का पुल आज भी मौजूद है, जिसे "भीम पुल" के नाम से जाना जाता है। यह पत्थर का पुल बड़ी शिला से नदी के दोनों किनारों को जोड़कर बनाया गया है। सरस्वती नदी, उत्तराखंड राज्य में बहने वाली अलकनंदा नदी की एक सहायक नदी है। यह केशव प्रयाग में अलकनंदा नदी में शामिल हो जाती है। भीम पुल, बद्रीनाथ से 4 किमी. दूर है और सरस्वती नदी के ऊपर बनाया गया है।
 

इस गाँव का पौराणिक नाम "मणिभद्र" है। यह माना जाता है कि पांडव भाइयों में से एक भीम ने अपनी प्रिय पत्नी द्रौपदी के लिए यह प्राकृतिक पुल बनाया था। हिन्दू पौराणिक कथाओं के अनुसार, यह वह स्थान था जहाँ से पांडवों ने स्वर्ग की यात्रा शुरू की थी, जिसे स्वर्गारोहिणी कहा जाता था। इस यात्रा के दौरान, द्रौपदी नदी को पार करने में असमर्थ थी। तब भीम ने एक विशाल चट्टान को उठाया और कण्ठ के बीच रख दिया। मान्यता है कि रास्ता मांगे जाने पर जब स्वरसती नदी ने पांडवो को मना कर दिया, तब गुस्से में आकर महाबली भीम ने चट्टान खींच कर द्रौपदी के लिए नदी पर पुल बना दिया। बाद में, इसे भीम पुल के रूप में जाना जाता था। यह पुल माणा गाँव में व्यास गुफा के सामने स्थित है और प्राचीन घाटी के अद्भुत दृश्य प्रदान करता है।

माना जाता है कि भीम के पास कई हाथियों की ताकत थी और चट्टान का यह विशाल टुकड़ा इतनी ताकत का गवाह है। इन चट्टानों पर ऐसे निशान भी हैं जिनकी व्याख्या भीम की उंगलियों के निशान के रूप में की जाती है। इस पुल के नीचे से अदृश्य माने जाने वाली स्वरसती नदी बहुत वेग और शोर के साथ बहती है। यह नदी आगे चलकर अलकनंदा नदी से मिल जाती है और अदृश्य हो जाती है। इसमें भी पौराणिक मान्यता जुडी है कि जब स्वरसती के रास्ता देने से इंकार करने पर भीम ने गुस्से से ज़मीन पर अपनी गदा से प्रहार किया तो नदी पाताल लोक चली गयी। लोग इस भीम पुल के नीचे बहने वाली सरस्वती नदी से पवित्र जल लेते हैं।

इस स्थान का भौगोलिक महत्व भी है क्योंकि यह भारतीय उपमहाद्वीप का अंतिम गाँव है। यह स्थान शानदार है और इस स्थान पर एक दुकान है जिसे भारतीय सीमा की अंतिम दुकान के रूप में विज्ञापित किया गया है।

 

  • भीम पुल, माणा गाँव के पास स्थित है, जो चीन की सीमा पर उत्तराखंड के बद्रीनाथ से 4 किमी. की दूरी पर स्थित है। यात्री बद्रीनाथ से यहाँ तक टैक्सी से जा सकते हैं।
  • साथ ही, एनएच-58 के माध्यम से बद्रीनाथ से माणा गाँव की ओर पैदल चलकर भी आसानी से भीम पुल तक पहुँच सकता है। गाँव के अंत में; एक बड़े शिलाखंड को देखा जा सकता है।
  • इसके साथ ही, यात्री यहाँ अलकनंदा और स्वरसती का महासंगम भी देख सकते हैं।